Connect with us

ब्लॉग अपडेट

bike number se details kaise nikale | बाइक नंबर चेक Online

Published

on

bike details

अब आप किसी भी दो पहिया या चार पहिया वाहन का नंबर सर्च करके उसके मालिक और उसके महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे- इंश्योरेंस, ड्राइविंग लाइसेंस आदि के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। bike owner details आपको वाहन के बारे में उपयोगी डेटा देती है जो सड़क दुर्घटना और लापरवाही से गाड़ी चलाने के मामलों में, सेकेंड-हैंड वाहन खरीदने से पहले या कानून और जांच उद्देश्यों के लिए काम आ सकता है। यदि आपने अपने वाहन/वाहन से संबंधित दस्तावेज़ खो दिए हैं तो वाहन विवरण भी महत्वपूर्ण हो सकता है।

आप वाहन का कोई भी विवरण पा सकते हैं। यदि आपका वाहन चोरी हो गया है और आप दावा करना चाहते हैं तब भी यह विवरण महत्वपूर्ण हैं। यदि आपके पास वैध दस्तावेज़ नहीं हैं तो वाहन की जानकारी अनिवार्य है। आप इस पोर्टल का उपयोग करके किसी भी वाहन कार/बाइक का विवरण ऑनलाइन पा सकते हैं। वाहन पंजीकरण विवरण, वाहन मालिक की जानकारी, वाहन आरटीओ की जानकारी भारत के किसी भी राज्य यानी महाराष्ट्र, दिल्ली, राजस्थान, गुजरात आदि से प्राप्त की जा सकती है।

वाहन/वाहन मालिक का विवरण क्यों महत्वपूर्ण है और आप नंबर प्लेट द्वारा वाहन का विवरण ऑनलाइन कैसे पा सकते हैं?

सेकेंड हैंड वाहन खरीदते समय, वाहन के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना या वाहन के मॉडल नंबर, वाहन निर्माताओं की पूरी जानकारी सत्यापित करना बहुत महत्वपूर्ण और कठिन काम है। लोग वाहन के कुछ डुप्लीकेट दस्तावेज बनवाकर खरीदारों को बेवकूफ बनाकर आपसे धोखाधड़ी कर सकते हैं। इसलिए वाहन/वाहन का विवरण सत्यापित करना हमेशा एक सही तरीका होता है। आप नंबर प्लेट द्वारा वाहन/वाहन की निम्नलिखित चीजों की जांच कर सकते हैं: वाहन की जानकारी, वाहन आरटीओ पंजीकरण संख्या, चेसिस नंबर, इंजन नंबर। आरटीओ वाहन सूचना डेटाबेस में भारत में वाहन/वाहन के क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय का विवरण भी शामिल है।

कैसे पता लगाएं bike owner details?

1. सबसे पहले परिवहन की आधिकारिक वेबसाईट https://vahan.parivahan.gov.in/nrservices/faces/user/citizen/citizenlogin.xhtml. पर जाएँ। 

2. सिर्फ अपने कॉन्टैक्ट नंबर और ईमेल आईडी से अकाउंट बनाएं और अपना पासवर्ड याद रखें।

vehicle details by plate

3. अकाउंट बन जाने के बाद, केवल अपना मोबाईल नंबर और पासवर्ड दल कर लॉगइन करें। 

vehicle details by plate

4. लॉगिन के बाद आप वाहन मालिक के विवरण को सत्यापित करने के लिए अपना वाहन प्लेट नंबर/आरसी नंबर दर्ज करें। 

vehicle details by plate

वाहन नंबर प्लेट क्या है?

वाहन नंबर प्लेट और कुछ नहीं बल्कि अंकों और अक्षरों का एक संयोजन है जो आपके वाहन को एक अलग पहचान देता है और आपको क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय या आरटीओ में पंजीकृत करता है। वाहन नंबर प्लेट मुख्य चीज है, जो वाहन की जानकारी, मालिक की हर जानकारी जो आपको चाहिए, उसे जोड़ती है। इसलिए वाहन/वाहन खरीदते समय वाहन नंबर प्लेट बहुत महत्वपूर्ण है। मोटर वाहन अधिनियम, 1988 किसी भी वाहन मालिक के लिए अपने वाहन को नंबर प्लेट नियमों के अनुसार पंजीकृत कराना और वाहन के पीछे और सामने एक नंबर प्लेट लगाना अनिवार्य बनाता है। नंबर प्लेट नियमों का उल्लंघन कर बिना नंबर वाली अपंजीकृत प्लेट पर भारी जुर्माना लगाया जा सकता है।

वाहन नंबर प्लेट का नंबर प्रारूप क्या है? bike details by number

Vahan Number plate format – eg. AB06CD 1234

AB:पहला भाग राज्य या केंद्र शासित प्रदेश को दर्शाता है, इसे दो अक्षरों से दर्शाया जाता है। उदाहरण के लिए, महाराष्ट्र राज्य में, वाहन नंबर प्लेट ‘MH’ कोड से शुरू होती है, दिल्ली में ‘DL’ से शुरू होती है। राज्य के नाम के 2 सबसे महत्वपूर्ण अक्षरों का उपयोग किया जाता है। यह पद्धति 1980 के दशक में शुरू हुई।

06:अगले 2 अंक जिले की अनुक्रमिक संख्या को दर्शाते हैं। चूंकि प्रत्येक राज्य में कम से कम एक जिला होता है, इसलिए जिला ही नए वाहनों के पंजीकरण का काम संभालता है। इस प्रयोजन के लिए, प्रत्येक जिले का अपना क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) होता है, जो चालक और वाहन पंजीकरण का प्रभारी होता है।

उपरोक्त दोनों के अतिरिक्त आगे के नंबर वाहन के लिए आइडेंटिटी होती होती है, जो सभी वाहनों के लिए अलग-अलग होती है। लाइसेंस प्लेट का तीसरा भाग एक अद्वितीय नंबर है जो वाहन की पहचान करने में मदद करता है। यदि कोई संख्या अनुपलब्ध है तो अंतिम अंक को बदलने के लिए अक्षरों का उपयोग किया जाता है। यह सभी वाहनों के लिए अतिरिक्त संख्या में कोड सुनिश्चित करता है। प्रीमियम कीमत पर आप कस्टम नंबर भी खरीद सकते हैं।
IND: चौथा और अंतिम भाग एक अंडाकार लोगो है जिस पर लिखा है, जो प्लेट पर बाईं ओर स्थित होता है।  “IND”, भारत का संक्षिप्त रूप; इसके शीर्ष पर एक क्रोमियम होलोग्राम भी है जो “चक्र” जैसा दिखता है। इसका उपयोग हाई-सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स (एचएसआरपी) में किया जाता है। ये छेड़छाड़-रोधी प्लेटें हैं जिन्हें वर्ष 2005 में वाहन चोरी को कम करने के इरादे से पेश किया गया था। अब 2019 से इसे अनिवार्य कर दिया गया है।

Continue Reading

ब्लॉग अपडेट

Janam Praman Patra Online | जन्म/मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन बनवाएं

Published

on

By

janam praman patra online

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जन्म प्रमाण पत्र या मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए पोर्टल शुरू किया गया है, जिसके माध्यम से अब घर बैठे ऑनलाइन जन्म या मृत्यु प्रमाण पत्र बनवा सकते हैं। जन्म या मृत्यु प्रमाण पत्र किसी भी राज्य के राजस्व विभाग द्वारा जारी किया जाता है। ये प्रमाण पत्र अब अस्पताल में ही मिल जाता है नहीं तो इसे अपने क्षेत्र के नगर पालिका/ नगर निगम/ ग्राम पंचायत से बनवाना पड़ता है। आजकल ऑनलाइन आवेदन के माध्यम से भी इसे बनवाया जा सकता है। जन्म या मृत्यु प्रमाण पात्र बहुत ही महत्वपूर्ण दस्तावेज़ है जिसकी आवश्यकता अक्सर पड़ती रहती है। अतः जन्म प्रमाण पत्र होना सभी के लिए अनिवार्य है। 

क्या है जन्म या मृत्यु प्रमाण पत्र

जन्म प्रमाण पत्र एक आधिकारिक दस्तावेज़ है जो एक व्यक्ति के जन्म की पुष्टि करता है। यह एक सरकारी दस्तावेज़ है जिसमें व्यक्ति के जन्म की जानकारी शामिल होती है, जैसे कि नाम, जन्म तिथि, जन्म स्थान, लिंग, और माता-पिता का नाम। यह दस्तावेज़ स्थानीय निर्धारित प्राधिकृत अथौरिटी द्वारा जारी किया जाता है, जो सामाजिक और साक्षरता दस्तावेजों की पहचान के लिए महत्वपूर्ण होता है।

जन्म प्रमाण पत्र का उपयोग विभिन्न स्थानों पर व्यक्ति की पहचान के लिए होता है, जैसे कि शिक्षा, रोजगार, राशन कार्ड, पासपोर्ट, बैंक खाता खोलने में, और अन्य सरकारी और गैर-सरकारी कार्यों के लिए। इसे आमतौर पर जन्म पंजीकरण अथवा नगर पालिका कार्यालय से प्राप्त किया जा सकता है।

मृत्यु प्रमाण पत्र सरकार द्वारा मृतक के निकटतम रिश्तेदारों को जारी किया जाने वाला एक दस्तावेज है, जिसमें मृत्यु की तारीख, तथ्य और कारण का उल्लेख होता है। यह दस्तावेज़ मृतक के आश्रितों को बीमा, सम्पत्ति विरासत, और अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ लेने में सहायता प्रदान करता है। 

आवश्यक दस्तावेज

  • माता-पिता का आधार कार्ड
  • माता-पिता का व्यवसाय और पता
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • जन्म की तारीख
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • निर्धारित प्रोफार्मा में माता-पिता द्वारा घोषणा

जन्म प्रमाण पत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

जन्म प्रमाण-पत्र ऑनलाइन आवेदन आप केवल 21 दिनों के अंदर कर सकते हैं, 21 दिन बीत जाने के बाद आपको अपने क्षेत्र की स्थानीय अथॉरिटी के पास जाना होगा। ऑनलाइन आवेदन के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें-

  1. सबसे पहले आप आधिकारिक eSathi वेबसाइट पर जाएं।
  2. होमपेज पर, आपको “नवीन उपयोगकर्ता पंजीकरण” के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  3. अब निम्न प्रपत्र आपके स्क्रीन पर होगा। 
Birth Certificate UP
  1. अब प्रपत्र में पूछे गई सारी जानकारी दर्ज करें और कैपचा कोड दर्ज कर ‘सुरक्षित करें’ पर क्लिक करें। 
  2. इसके बाद आपको होम पेज पर लॉगइन में पूछी गई जानकारी दर्ज करना होगा जैसे- यूजर नेम, पासवर्ड / ओटीपी, सुरक्षित कोड(Captcha) आदि दर्ज करें और ‘सबमिट’ बटन पर क्लिक करें।
  3. लॉगइन के बाद आप सेवा के अनुभाग से “जन्म प्रमाण-पत्र के लिए आवेदन-पत्र” चुनें।
  4. इसके बाद, आपको ‘जन्म प्रमाण-पत्र हिंदी/अंग्रेजी’ में चुनाव करना है। 
  5. अब जन्म प्रमाण पत्र के लिए आवेदन फॉर्म खुल जाएगा।
  6. इस फॉर्म में आपको नाम, पता, मोबाइल नंबर, डिस्ट्रिक्ट इत्यादि सभी जानकारियों को दर्ज करें और सभी आवश्यक दस्तावेज़ अपलोड कर दें।
  7. इन सब के पश्चात सबमिट पर क्लिक करें। 
  8. आपका उत्तर प्रदेश जन्म प्रमाण पत्र के लिए आवेदन पूरा हो जाएगा।
  9. आप अपने फॉर्म का प्रिंट आउट कर भविष्य के लिए रख सकते हैं। 

जन्म प्रमाण-पत्र ऑनलाइन चेक

  1. सबसे पहले, आपको ई-डिस्ट्रिक्ट उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट – https://edistrict.up.gov.in/edistrictup/ पर जाना होगा।
J6p6lRJgt5ltmN XOK9XiEO8tr2WSkYXMoNPVblPqn W1nKs3dqRvmhlQ8Ua4hnygBNvDvSwaegij TzqqER9oMnSY
  1. होम पेज पर आप ‘Certificate Verification’ पर क्लिक करें। 
  2. इसके बाद स्क्रीन पर डायलॉग बॉक्स आएगा। आपको इस डायलॉग बॉक्स में अपना एप्लीकेशन नंबर और सर्टिफिकेट आईडी डालना है। और सर्च आइकन पर क्लिक करना है।
  3. यदि वह जन्म प्रमाण पत्र डेटाबेस में होगा तो उसकी जानकारी आपकी स्क्रीन पर प्राप्त हो जाएगी। 
Certificate Verification

जन्म प्रमाण-पत्र के आवेदन की स्थिति चेक करना

  1. सबसे पहले, आपको ई-डिस्ट्रिक्ट की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  2. होम पेज पर आपको ‘Track Status’ पर क्लिक करना है।
  1. इसके बाद स्क्रीन पर एक डायलॉग बॉक्स आएगा, जिसमें आपको अपना एप्लिकेशन नंबर दर्ज करना है। 
  2. अब आपको सर्च आइकन पर क्लिक कर देना है।
Application Status
  1. आपके आवेदन की स्थिति आपके सामने आ जाएगी। 

मृत्यु प्रमाण-पत्र बनवाने की ऑनलाइन प्रक्रिया

मृत्यु प्रमाण पत्र (Death Certificate) बनवाने के लिए आपको ऊपर दिए गए जन्म प्रमाण पत्र आवेदन के दिशा निर्देशों का ही पालन करना है केवल चरण 6 में आपको ‘जन्म प्रमाण पत्र आवेदन’ के स्थान पर ‘मृत्यु प्रमाण-पत्र आवेदन’ चुनना है। 

Continue Reading

ब्लॉग अपडेट

AIIMS में ऑनलाइन अपॉइन्टमेंट | AIIMS Delhi Online Appointment 2023 | AIIMS OPD

Published

on

By

AIIMS

AIIMS Delhi: एम्स दिल्ली या अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली भारत का एक प्रसिद्ध सार्वजनिक चिकित्सा अनुसंधान विश्वविद्यालय और अस्पताल है। इस संस्थान को 1956 में AIIMS Act के तहत स्थापित किया गया था। AIIMS Delhi स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत स्वायत्त रूप से काम करता है।

AIIMS भारत का मशहूर और अच्छा अस्पताल है। यहाँ इलाज के लिए बहुत भारी मात्र में लोग आते हैं। इस कारण यहाँ इलाज के लिए अपॉइन्टमेंट लेना एक कठिन कार्य होता है। बहुत पहले से यहाँ नंबर लगाना पड़ता है। इसमें किसी व्यक्ति का काड़ी समय और पैसा खर्च होता है। ऐसे में लोगों की आसानी के लिए अब AIIMS ने ऑनलाइन अपॉइन्टमेंट बुकिंग शुरू की है। जिससे हम अब ऑनलाइन अपॉइन्टमेंट बुक कर सकते हैं। 

दिल्ली एम्स में अपॉइंटमेंट कैसे बुक करें?

आप नीचे दिए गए दिशा निर्देशों का अनुसरण करके बहुत आसानी से AIIMS दिल्ली की OPD में अपॉइन्टमेंट बुक कर सकते हैं। AIIMS Delhi में अपॉइन्टमेंट बुक करने के लिए निम्न चरणों का पालन करें-

  1. सबसे पहले आपको Online OPD Appointment बुक करने के लिए AIIMS दिल्ली की आधिकारिक वेबसाइट www.aiims.edu पर जाना है।
  2. अब आपको website के होमपेज पर Appointments का लिंक दिखाई देगा, आपको इसपर क्लिक कर दें।दिल्ली एम्स में अपॉइंटमेंट
  3. इस पर क्लिक करने पर आपको ड्रॉप डाउन मेनू में Online OPD Appointment पर क्लिक करना है।
  4. अगले पेज पर आपको please check link:के सामने दिए लिंक https://ors.gov.in/ors/ पर क्लिक करना है।
o2IN9e8NMSlQUQKE0EfUVPt uv0Pr6TAmZP V15C4U6j7eLbcI4IqPTUptAgXrlNZ1nAwOAHdkTMVfbOkD9eTLfhoLnuoEBjnvFZESZaIqr4XTL L2jutgqG1nmwizRunXroQ00lEEUDZDnEI81rK00
  1. क्लिक करते ही अब आप Online Registration System के पेज पर पहुँच जाएंगे।
  2. ORS के होमपेज पर आपको सबसे पहले अपने अस्पताल का चुनाव करना है।
  3. यदि आप एम्स में अपॉइन्टमेंट लेना चाहते हैं तो AIIMS Delhi hospital का चुनाव करें।
ngmnqSEcwoFY2OAm3kDi30ErT uf96WyHOupJLpQPJOh0yhy3mW035xQwpkuHRVjoadV0rLPhfzcZp5Iu236JOFi0SUczP90SVm c5nScZ5hRiGfof9txQsmFE8XKgCVCixDjvg8C21V WcRRXnOs0s
  1. अब आपकी स्क्रीन पर Appointment booking का फॉर्म खुल जाएगा।
  2. यहाँ आपको Select Consultant Mode के नीचे Appointment for physical consultation with doctors के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
hXC
  1. अब आपको New Appointment पर क्लिक करना है। और सेंटर चुनना है जिसमें आप इलाज कराना चाहते हैं। 
EOttGgjCrfj31aH2 rnzloYZxUnZpy8gy9q1UrhdXsWXprRa6KMwIbXQUjz74z1o6DMdPMjalWgOJXquaTNEc6ovtR13RTcQ8xOMC 91SVahKxBlJFV2NgW m7qF45E7MtS8TPY6aistPC LjQq6ZIg
  1. अब आपको appointment date चुनना है। 
ubJfr1eu4JHJE0so3vCawdY SC9BCYNSFO9PnXXNB3nlL0YwwHbI1gxWNmzkBBiQr vNYXFu EgBXiC8VjW1gks5KMWfj3BCs0ZLgi9uv71TmLz Eb NanpB0q6b6SkYbDYqagtl7CV07ooLae5l Bw
  1. इसके बाद आपको अपना मोबाइल नंबर को डालना है।
  2. मोबाइल नंबर डालने के बाद अब आपको कैप्चा कोड भरना है और Submit पर क्लिक करना है।
  3. सबमिट पर क्लिक करते ही आपके मोबाइल नंबर पर एक OTP मिलता है इसे ओटीपी बॉक्स में डालें और Proceed पर क्लिक करें। 
  1. प्रोसीड पर क्लिक करते ही आपकी स्क्रीन पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन सिस्टम (ORS) का पेज ओपन हो 

जायेगा।

PANi1XYnAmMTL0e1hrbyAEq Zjo 52twVm0EaWzTOxzE4WAYNqztCof95 Seb2AkRuiTeiGbkWbfLXcbRKHcE tq5ryalSq6gsmKLcG474JIB5bwgL132eSozsNR1izh8j4F6lq 8aJvTWAO6Qh3 8
  1. अब अगले पेज पर आपको Register Member पर क्लिक करना है और मरीज की डिटेल्स भरनी है। 
8Ay8P RCXbsCkrXf28vtUn9 1jry9n lJDzcO2h4RNsqcdiJO0Zrqz6ens2izIPVjyymj I6HFLskQLFniZjLQMypUeL462oZ2MGPeEomVC5xY91AErgOizj8ro54137vkVzbOX9Ba Axq EoNbOUPw
  1. डिटेल्स भरने के बाद आपको सबमिट पर क्लिक करना है। 
  2. अब आपको भुगतान करने का ऑप्शन आएगा।
  3. पेमेंट करने के बाद आपकी AIIMS Delhi के लिए Appointment बुक हो जायेगी।
  4. अपॉइंटमेंट बुक होने के बाद अपनी Appointment Receipt का प्रिंट निकलवाकर अपने पास सुरक्षित रख लें।
  5. आप इस Appointment Receipt दिखाकर स्वयं या मरीज को हॉस्पिटल में दिखा सकते हैं।
  6. इस प्रकार से आप ऑनलाइन घर बैठे AIIMS Delhi अस्पताल के सभी डिपार्टमेंट के लिए Appointment बुक कर सकते हैं।
Continue Reading

ब्लॉग अपडेट

how to validate E-Aadhaar card signature in mobile | डिजिटल सिग्नेचर वैलिडेट कैसे करें?

Published

on

By

E-Aadhaar

E-Aadhar डाउनलोड करने पर आपको उस pdf में ‘?’ का चिन्ह दिखेगा, इस निशान का अर्थ है की यह डाक्यमेन्ट अभी वैलिड नहीं है। इसे सत्यापित करने के लिए आपको कुछ अभी कुछ कार्य करना होगा जिससे आपका दस्तावेज़ वैध्य हो जाएगा। E-Aadhar की डिजिटल कॉपी कई सरकारी कार्यों में सत्यापन के उद्देश्य से आवश्यक होती है। पासपोर्ट बनवाना हो या कोई अन्य पहचान प्रमाण से संबंधित कार्य हो, ऐसे कई स्थानों पर इसकी जरूरत होती है। तो आईए जानते हैं की कैसे किसी भी डिजिटल सिग्नचर को कैसे वैध्य करें। 

E-Aadhar पर डिजिटल सिग्नेचर वैध्य करने के चरण

  1.  सबसे पहले UIDAI की आधिकारिक पोर्टल से अपना ई-आधार डाउनलोड करें। 
hRyKI0zOiR3xmf qS xlK hOGkVjzW8U3GHnDg80mmBF2qW0XAr6BVSoZcOWdT5ZqI1a2F4foMRmhpmyCDS7tTeJN LSymz Qv3naEL692oHJFbPbDCroEE U9g63p4zV1sNmlqnm9o3HpqC 8uAzIk
  1. अब प्राप्त पीडीएफ को एडोब रीडर में खोलें। 
  2. ‘वैधता अज्ञात’ यानि ‘?’ चिन्ह पर राइट क्लिक करें और ‘Validate Signature’ पर क्लिक करें।
ghR8GApSSL7BZU4zjdQ JWu7UjRGSQ7ibdb9ILY40fqOPCcBoR7d84JIbYXtNUe6wK8durB0w5GlaW4aU2 DcFHEIio5t5cK41Wo5s9Cb25j7 oLaAJBEysl INpTvrustvbuqUUBe2scBbW25E2hg
  1. आपको ‘Validate Signature’ विंडो मिलेगी, इसमें राइट क्लिक करें।
gKuGPAY7owABtDIPw6sCxCVS3H6aUPme9ZkaIgY78tCSjWZjNpXj32IJEqpnnIIrAccaVLiGYZKmS7qaUKjEQU6qYMDgBBFhAM4qS3fldhhNAV32Sp58ontmtw1sUXMOuotSVfL SrnIGIaUsipCDG4
  1. अब ‘Show Signature Properties” पर क्लिक करें।
  2. यह सुनिश्चित करें कि ‘(n)Code Solutions CA 2014′ नाम से एक प्रमाणन जारी किया गया है।
ybrE4yzejnZV JZV DmaTpgzAGHweB2aK81F7Wi0KEYgfmi7Y5BdLuaQjnzltVfi4B7ITZUavsdd Ye6EVqJ2wv8UJEQgyk BBd1jLhxxRJ7ZgR NNn8ulvbdzVjOhXhJEONBhAqZn9hI1Om15raF24
  1. ‘Summary’ (टैब) पर, ‘Export’ पर क्लिक करें। 
  2. इस सर्टिफिकेट को अपने स्थानीय सिस्टम (डेस्कटॉप/लैपटॉप) में सेव कर लें।
  3. इसके बाद ‘नेक्स्ट’ और फिर ‘फिनिश’ पर क्लिक करें।
  4. अब ‘Trust’ टैब पर क्लिक करें, फिर ‘Add to trusted certificate’ पर क्लिक करें। इसके बाद ‘Certified documents’ के तहत तीनों विकल्पों का चयन करें और ‘OK’ पर क्लिक करें।
zKVta2watg8bYXfLLIwJX0AO2VdzGT bI aov4X0h2njCQndDjAxP0i60TC 9tHlixu9dXirhHtpvv5AXB gw ISqgl eTWlsaY2G3NxhUHXlSeDAnVQV12H6b e5IVrbp5Or4odr8Ve1sjQQugF yA
  1. ‘Validate Signature’ पर दोबारा क्लिक करें और क्लोज़ कर दें। 
nKSS CaocxVZiDGY5uAtKgo6JV 8q83Z5dJbnBDZ2OQWr6f2 Dh0ZYL3Drv2TMOk
  1. एक बार यह ट्रस्टेड हो जाने पर, सीसीए से डिजिटल हस्ताक्षर वाले सभी दस्तावेज़ खोले जाने पर स्वतः मान्य हो जाएंगे।
  2. यदि डिवाइस पर प्रमाण पत्र की वैधता समाप्त हो चुकी दिखता है तो आप फिर से E-आधार डाउनलोड करें और उपरोक्त प्रक्रिया दोहराएं।  
NjpHxovLv7XgS6hZvKhd p8q1QbCrZtH78IfWRG2XF6jTkvzpWVwH3SPIrzEkMz4ILrj 3 QzdFGX95nAN G7sS5Xuup9lvjQDDG7Ed3pIUnhUyNB Ptt8iuz

इस प्रकार आप उपरोक्त चरणों का पालन कर अन्य सभी डिजिटल सिग्नचर युक्त दस्तावेज़ों को स्वयं वैध कर सकते हैं। 

Continue Reading

Trending

Copyright © 2024 सरकारीयोजना.com.